यूपी : कोरोना को देखते हुए नहीं होगी कावड़ यात्रा – योगी सरकार

0
129
यूपी में कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर की आने की बातें सामने आ रहीं है, हालांकि बीते 24 घंटो में 40 ही संक्रमण के मामले सामने आए है, जिसके चलते कावड़ यात्रा के लिए सरकार ने फैसला लेते हुए सुप्रीम कोर्ट में अपना बयान दर्ज कर दिया है. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि कोरोना को देखते हुए इस साल भी कांवड़ यात्रा स्थगित कर दी गई है, यानि  इस साल भी प्रदेश में कावड़ यात्रा नहीं होगी।
 Kavad Yatra:
 
कोर्ट ने खत्म किया मामला 
 
कोर्ट में सरकार के जवाब दर्ज होने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को बंद कर दिया है, वहीं  कोर्ट ने कहा है कि इसका उल्लंघन होने पर कड़ी कार्रवाई की जाए। लोगों का जीवन का अधिकार सर्वोपरि है। यूपी के अपर मुख्‍य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल ने शनिवार को इस बात की जानकारी दी थी। उन्होंने कहा कि राज्‍य सरकार की अपील के बाद कांवड़ संघों ने यात्रा रद्द करने का निर्णय लिया। कांवड़ यात्रा 25 जुलाई से शुरू होनी थी।
क्या होती है कावड़ यात्रा ?
 
हिन्दू धर्म के अनुसार भगवन शंकर को  खुश करने के लिए उनके हर साल लाखों श्रद्धालु कांवड़ यात्रा निकालते हैं। कहा जाता है कि ऐसा करने से भगवान शिव भक्तों की सारी मनोकामना पूरी करते हैं। यात्रा शुरू करने से पहले श्रद्धालु बांस की लकड़ी पर दोनों ओर टिकी हुई टोकरियों के साथ किसी पवित्र स्थान पर पहुंचते हैं और इन्हीं टोकरियों में गंगाजल लेकर लौटते हैं। इस कांवड़ को लगातार यात्रा के दौरान अपने कंधे पर रखकर यात्रा करते हैं, इस यात्रा को कांवड़ यात्रा और यात्रियों को कांवड़िया कहा जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here